गुड़गांव: ट्रैक पर एनपीआर – नवभारत टाइम्स – 27-Dec-2014

December 30, 2014 - Uncategorized

एनपीआर प्रोजेक्ट आखिरकार ट्रैक पर आ गया। हूडा की प्लानिंग सिरे चढ़ी, तो नए साल में नॉर्दर्न पेरिफेरल (एनपीआर) की सौगात मिल सकती है। इसे कंप्लीट करने के लिए हूडा प्रोजेक्ट से प्रभावित 319 लोगों को सेक्टर-37सी और 110ए में प्लॉट देगा।

अब तक मिस हो चुकी हैं कई डेडलाइन

एनपीआर की अब तक 6 डेडलाइन क्रॉस हो चुकी हैं। 30 दिसंबर 2014 को 7वीं डेडलाइन क्रॉस होने जा रही है। इससे पहले जून 2014 को छठी और दिसंबर 2013 में 5वीं डेडलाइन थी, जो क्रॉस हो चुकी है।

इस तरह होगा काम

आरओबी : एनपीआर पर बसई से आगे खेड़कीदौला टोल तक जाने के लिए बीच में रेललाइन है। यहां एक रेलवे ओवरब्रिज बनना है। हूडा ने अपने हिस्से का करीब 70 प्रतिशत काम कर दिया है। लाइन के ऊपर का हिस्सा रेलवे को बनवाना है। हूडा ने इसके लिए पेमेंट कर दी है। 2 दिन पहले हूडा प्रशासक ने रेलवे अफसरों के साथ मीटिंग कर उन्हें जनवरी में ही आरओबी का काम शुरू करने को कहा है।

अंडरग्राउंड लाइन : एनपीआर रोड के बीच में आ रही 11 केवीए की सभी लाइनों को शिफ्ट किया जा चुका है। 66 केवीए की लाइन के लिए एचवीपीएन ने अंडरग्राउंड लाइन डालने का सुझाव दिया है। इस पर करीब 19 करोड़ रुपये खर्च होंगे। 50 लाख रुपये इलैक्ट्रिकल विंग ने एचवीपीएन को दे दिए हैं। साथ ही एसपीआर पर अंडरग्राउंड केबल का एक प्रोजेक्ट बिल्डरों के पैसे न देने के चलते बंद हो गया। हूडा ने उस प्रोजेक्ट के लिए अपने हिस्से के 15 करोड़ एचवीपीएन को जमा कराए थे। अब ये 15 करोड़ रुपये एनपीआर प्रोजेक्ट में ट्रांसफर करने के लिए एचवीपीएन को लेटर लिख दिया गया है। जल्द ही अंडरग्राउंड केबल का काम भी शुरु हो जाएगा।

बसई प्लांट का हिस्सा शिफ्ट : बसई प्लांट के पीछे नहर का पानी प्लांट तक पहुंचाने के लिए बूस्टिंग पंप बना हुआ है। यह भी एनपीआर के बीच में आ रहा है। इसकी जगह नया बूस्टिंग पंप तो बना दिया गया है, लेकिन उसे शुरू कर पुराने पंप को तोड़ना है ताकि यहां रोड बन सके। इसके लिए एस्टीमेट तैयार कर लिया गया है। जल्द ही पुराने पंप को तोड़ने के लिए टेंडर जारी कर इस काम को पूरा कराया जाएगा। उसके बाद प्रोजेक्ट शुरू हो सकेगा।

 

Navbharat Times

Leave a Reply